सोमवार, 16 सितंबर 2013

उक्ति - 8

दु:ख और पीड़ा में जो भावनाएं उभरती हैं, वही भावनाएं सुख के चरमोत्‍कर्ष के दौरान भी होनी चाहिए। तब ही मानवों के मध्‍य मानवोचित संवेदनाएं बनी रहेंगी।

6 टिप्‍पणियां: