गुरुवार, 10 अक्तूबर 2013

उक्ति - 18



जीवन एवं मृत्‍यु संसार के दो सबसे बड़े सच हैं। जीवन में हमेशा इससे अवगत रहना चाहिए। यह जीते जी ही अनुभव किया जा सकता है। दुर्भाग्‍य से अधिकांश मानव मौत से ठीक पूर्व ही ये समझ पाते हैं और इसी कारण संसार में अशान्ति है।   

8 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-
    नवरात्रि / विजयादशमी की मंगल कामनाएं -
    (१२-२३ अवकाश पर हूँ-सादर )

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ शायद सही कह रहें हैं आप ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. एकदम सटीक बात विकेश जी, बेहद ज्ञानवर्धक उक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    उत्तर देंहटाएं
  5. सटीक ... सच ओर याद रखने वाली बात ...
    विजयदशमी की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं