शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

उक्ति - 28

दूसरे को समझाने-बुझाने के लिए सभी बुदि्धमान होते हैं, पर स्‍वयं को समझा-बुझा सकनेवाले विद्वान कम ही होते हैं।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया उक्ति-
    आभार भाई जी-

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य वचन...ज्ञान बांटना बहुत ही आसना है। किन्तु यदि दूसरों को समझाने के बजाए खुद को ही समझ ले इंसान तो बहुत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य कथन..खुद को समझाने वाले व्यक्ति बिरले ही होते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया उक्ति-
    आभार विकेश भाई जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्य वचन---वाकई जब अपनी बात आती है तो मति नष्ट हो जाती है--
    उत्कृष्ट----

    उत्तर देंहटाएं